‘फोबिया’ के साथ दिल्ली पहुंचीं राधिका आप्टे

मराठी फिल्मों से बॉलीवुड में कदम रखने वाली एक्ट्रेस राधिघ्का आप्टे हिंदी फिल्मों के अलावा बंगाली, मराठी, तेलगु, तमिल और मलयालम फिल्मों में भी सक्रिय अभिनेत्री हैं। हाल ही में फिल्म ‘मांझी-द माउंटेन मैन’ में नवाजुद्दीन सिघ्द्दीकी के साथ अपनी बेहतरीन एक्टिंग से सबको हैरान करने वाली एक्ट्रेस राधिघ्का आप्टे अब एघ्क बार फिर अपनी आने वाली थ्रिघ्लर फिल्म ‘फोबिया’ के जरिए दर्शकों को चैंकाने की तैयारी कर चुकी हैं। इरोस इंटरनेशनल एंड नेक्स्टजेन फिल्म्स के बैनर तले बनी एवं 27 मई को रिलीज होने जा रही अपनी इसी फिल्म ‘फोबिया’ के प्रमोशन के सिलसिले में फिल्म के डायरेक्टर पवन कृपलानी (‘रागिनी एमएमएस’ फेम) के साथ राधिका दिल्ली में थीं।
इस दौरान अपनी इस नई फिल्म की कहानी एवं इसमें अपने किरदार के बारे में राधिका ने बताया, ‘फिल्म में एक्ट्रेस को एक अनजान डर का सामना करते हुए दिखाया गया है। इस फिल्म में मैं एघ्क ऐसी लड़की का किरदार अदा कर रही हूं, जिघ्से अगोराफोबिया फोबिया है। इस बीमारी से जूझ रहे इंसान को लोगों के बीच या घर से बाहर जाने से डर लगता है। फिल्म में मैं एघ्क ऐसी पेंटर के किरदार में दिखाई दूंगी, जिसके साथ एक रात एक ऐसा हादसा होता है कि उस रात उसकी पूरी जिंदगी बदल जाती है।’ डर से पीड़ित लड़की का किरदार निभाने की वजह पूछने पर राधिका ने कहा, ‘मुझे थ्रिलर और हॉरर पसंद हैं, इसलिए मैं बहुत खुश हूं कि पहली बार मुझे इस शैली की फिल्म में काम करने का मौका मिला। इसी पसंदगी की वजह से मैंने ‘फोबिया’ को अपनी फिल्म सूची में जोड़ा। हालांकि, यह एक हाॅरर फिल्म जरूर है, लेकिन लोगों को इसमें भरपूर मनोरंजन भी मिलेगा। इस किरदार को निभाने के लिए मैंने काफी मेहनत की है। यू-ट्यूब पर ऐसी कई फिल्में देखीं, तो डाॅक्टरों-मनोचिकित्सकों के पास जाकर उनसे यह जानने की कोशिश की कि इस रोग से पीड़ित लोग किस तरह का बर्ताव करते हैं।’ तो क्या आनेवाले समय में वह इस तरह की और फिल्में कर सकती हैं? राधिका कहती हैं, ‘मैं समान किरदारों के रिपीट करने में बहुत ज्यादा यकीन नहीं करती हूं, क्योंकि मैं वही रोल चुनती हूं, जो मुझे पसंद आता है। अगर भविष्य में ऐसा कोई रोल पसंद आ गया, तो उसे स्वीकार करने में पीछे नहीं हटूंगी।’
इससे पहले ‘रागिनी एमएमएस’ जैसी फिल्म बला चुके फिल्मकार पवन कृपलानी से यह पूछने पर कि आखिर इस खास किरदार के लिए राधिका आप्टे का चयन क्यों किया? उन्होंने कहा, ‘हमंे एक ऐसे कलाकार की जरूरत थी, जो न केवल कहानी के साथ तारतम्य बिठा सके, बल्कि उसे अपने किरदार की गहराई का भी ज्ञान हो। इस किरदार को जीवंत करने के लिए किसी तरह के नाटक की जरूरत नहीं थी, बल्कि इसे नेचुरल तरीके से निभाकर ही साकार किया जा सकता था। राधिका अपनी अब तक की फिल्मों में निभाए गए किरदारों से इस बात का पुख्यता प्रमाण दे चुकी हैं कि उन्हें किरदारों की कितनी समझ होती है। ऐसे में इस फिल्म के लिए राधिका ही परफेक्ट कलाकार थीं। मुझे उम्मीद है कि ‘फोबिया’ फिल्म उद्योग में एक नए बदलाव की वजह बनेगी।’