“वीरप्पन के गाने आपकी चाइल्डहुड मेमोरी को रिकॉल कर देंगे”

आने वाले दिनों में रिलीज होने जा रही और डाकू वीरप्पन पर बनी फिल्म वीरप्पन ने अपने सॉन्ग्स लॉन्च किए। राम गोपाल वर्मा डायरेक्टिड इस फिल्म में डाकू वीरप्पन की पूरी लाइफ को दिखाया गया है कि कैसे वह डाकू बना और डाकू बनने के बनने के बाद उसने क्या क्या किया। सॉन्ग लॉन्च पर फिल्म के प्रॉड्युसर सचिन जोशी ने कहा कि फिल्म के सारे सॉन्ग बड़े इंटरस्टिंग है जो आपको आपके बचपन की याद दिला देंगे। फिल्म में “लल्ला लल्ला लोरी” जैसे कई ऐसे गानें है जो आपके चाइल्डहुड मेमोरी को फिर से रिकॉल करते है।

रामगोपाल वर्मा बॉलिवुड के फेमस डायेक्टर्स में से है जिन्होंने अब तक छप्पन, शूल, कंपनी जैसी सुपरहिट फिल्में बनाई है और अब उनकी डाकू वीरप्पन पर की रियल लाइफ बेस्ड फिल्म वीरप्पन का हिंदी वर्जिन आ रहा है इससे पहले तेलुगु वर्जिन में आई फिल्म ऑलरेडी हिट हो चुकी है।


सॉन्ग लॉन्च के मौके पर जब राम गोपाल वर्मा ने बताया कि फिल्म लड़ाई से ज्यादा इमोश्नल है। फिल्म में वीरप्पन का किरदार निभा रहे संदीप भारद्वाज के बारें में जब राम गोपाल वर्मा से पूछा गया कि आपने संदीप को इस फिल्म के लिए क्यों चुना तो इस पर राम गोपाल वर्मा ने कहा कि “संदीप काफी टैंलेटिड इंसान है। हमनें बकायदा उसका ऑडीशन लिया, फिर उसे सिलेक्ट किया। बाकी जब आप फिल्म देंखेगे तो खुद देख पाएंगे कि काफी सुलझा हुआ और मझा हुआ आर्टिस्ट है वो। और मेरे हिसाब से नॉन फेस होने से कुछ नहीं होता फिल्म की कहानी में दम होना चाहिए। अगर फिल्म की कहानी दमदार होगी तो फिल्म चलेगी।“ फिर जब रामू से उनकी फिल्मों के ज्यादा ना चल पाने के बारे में पूछा तो राम गोपाल वर्मा ने कहा कि “जब भी मेरी कोई फिल्म नहीं चलती तो बिस्तर में दुपक्कर रो लेता हूं, अरे मतलब कि जब आपकी फिल्म चलती है तो आपको खुशी होती है लेकिन जब कोई नहीं चलती तो मैं उसे एक लर्निंग मानता हूं और यह एक प्रोसेस है जो हमेशा चलती रहती है।“



फिल्म के प्रॉड्युसर सचिन जोशी ने कहा कि हम अकसर देखते हैं कि पूरी फिल्म हीरो पर बेस्ड होती है पर यह एक ऐसी फिल्म है जो एक विलेन पर बेस्ड है। फिल्म के डायलॉग्स के बारे में जब सचिन जोशी ने पूछा गया कि ट्रेलर में कोई डायलॉद क्यूं नहीं है तो सचिन ने कहा कि मेरा मानना है कि “किसी भी फिल्म का अगर पहला इम्प्रेशन अच्छा है तो उसे ज्यादा अच्छे डायलॉग्स की जरूरत नहीं पड़ती। लेकिन हमारी फिल्म में ऐसे कई डायलॉग्स है जो आने वाले टाइम में भी सदाबहार रहेंगे।“ जैसे हमने शोले फिल्म के फेमस डायलॉग “पचास पचास कोस दूर” को मोडिफाई करके गब्बर की जगह वीरप्पन डाला है।

फिल्म 27 मई को हिंदी लैंग्वेज में इंडिया और ओवरसीज़ में रिलीज होने जा रही है।